शुक्रवार, 12 जून 2015

स्कूल की यादों को उकेरती कविता

जून का वो महीना


बहुत याद आता  है 
जून का वो महीना
स्कूल की यादो को उकेरता है 
जून का महीना 
वह स्कूल, वह जगह 
वह बेंच, वह दोस्त 

'एक क्लास और आगे बढ़ गए'
लगता था जैसे बहुत बड़े हो गए 
पहले दिन जल्दी जाना 
सबसे अच्छी बेंच पकड़ना
बहुत याद आता  है 
जून का वो महीना



नई किताबे, नई  पेन 
नई चप्पले, नया बैग 
कितना आनंद छुपा था 
उस बुक शॉप की भाग दौड़ में 
''अंकल, वह परी वाला स्टीकर देना 
वह कवर का पूरा बंडल देना,
ये वाला नही वो अलादीन वाला कंपास देना''
दूसरे दिन दोस्तों को दिखाना 
'मेरा वाला पेन तेरे पेन से ज्यादा अच्छा है
तेरा स्टीकर इतना अच्छा नही है मेरा वाला देख'
बहुत याद आता  है 
जून का वो महीना
जब भी बारिश की पहली बूँद पड़ती है,
कभी न मिटने वाली ये यादें 
चक्षु पटल पर अंकित हो जाती है 
डबडबाई आँखों से वर्षा बूँद की तरह 
धुंधलाकार मिटा जाती है 

देखते देखते ही न जाने कब 
इतने जून बीत गए कि 
अब वो यादें बन गई 
कैसे  समझाऊ खुद को 
ना आयेंगे वो दिन 
ना आयेंगे वो पल

दुनिया की भेड़चाल में 
खो गयी है सारी मासूमियत 
यंत्रचालित सी जिंदगी ने 
छीन ली है सारी इंसानियत 
क्या पता था तब हमे 
ये ही जीवन के सबसे हंसी दिन है 
आज जब पता चला तो कभी ना लौट पाने का गम है 

हे ईश्वर अगर लौटाते हो 
बीता हुआ कल 
तो मुझे लौटा दो, सिर्फ एक पल 
जून का वो महीना 
            जून का वो महीना ...........