मंगलवार, 22 सितंबर 2015

कहानी

अविस्मरणिय यात्रा - भाग २ 

रात के हवा के झोंको की बात ही कुछ और होती है, आगाज़ में एक शीतलता और ख़ामोशी होती है। इसलिए तो लेखक और कवि रात के शांत वातावरण में अपने विचारों को गूँथने की कोशिश करते है। इस समय की नींद भी सबसे ज्यादा सुखद होती है, और इसी सुखद नींद को मै आज आत्मसात कर रही थी।  पर यह नींद इतनी भी गहरी ना थी , और एक आवाज से मेरी आँख खुल गई।  लगा कोई स्टेशन आ रहा है, या फिर कोई ट्रैन में चढ़ रहा है। 
मेरे विचार के विपरीत ट्रैन तो तेज गति से चले जा रही थी। घडी में सुबह के तीन बज रहे थे, इस समय अचानक आँख खुलने से थोड़ी झुलझुलाहट हो रही थी।  तभी सामने वाली बर्थ पर देखा तो एक अधेड़ उम्र का व्यक्ति बैठा था। यह व्यक्ति तो पहले यहाँ नहीं था, अचानक कहाँ से आ गया ? प्रमुख स्टेशन के बाद अगला स्टेशन करीब सुबह ६  बजे आता है ।  मैं विचारो के इन सब उधेड़बुन में थी कि वह व्यक्ति मुझे देखकर मुस्कुराया, मैं प्रत्युत्तर में उसे देखकर मुस्कुरा दी।  पर भीतर से मुझे तो कई विचार खाए जा रहे थे। 
इतने में उस व्यक्ति ने कहा, 'तुम नैनी जा रही हो ना ?' मैंने थोड़ा चकित होते हुए हामी भर दी। मेरे चेहरे के भाव को पढ़ते हुए उसने कहा  'फ़िक्र मत करो वह तुम्हारे कार्यक्रम का एक प्रॉस्पेक्टस गिरा हुआ था, मैंने उसमे देखा।'
 उस व्यक्ति ने कहा, 'क्या तुम सच में भूत- प्रेत और अलौकिक शक्तियों पर विश्वास नहीं करती?  
समय न गवाते हुए मैंने सीधा जवाब दे दिया 'हाँ,यह सब बकवास है, मै तो बिलकुल भी उनपर विश्वास नहीं करती और शायद इसी वजह से मै इस कार्यक्रम से जुडी हुई हूँ। ' 
'क्या तुमने कभी भूत प्रेत देखे है, या फिर इन  शक्तियों को महसूस किया है?' 

'नहीं ! ' मैंने कहा ''दरअसल यह सब बातें लोगों की दिमाग की उपज है और कुछ नहीं, उन्हें यह सब अपने सब - कॉनसियस माइंड से महसूस होता है।  इन सब शक्तियों का वैसे भी अब तक कोई पुख्ता प्रमाण नहीं है।'' 
वह व्यक्ति मेरी बातों को ध्यान  से सुन रहा था।  उसके बाद उसने कहा, '' तुम अपनी जगह सही हो, पर कई लोगों ने  पूरे  होशोहवास में ऐसी आकृितिया देखी है जिसका इस जीवन से कोई सम्बन्ध नहीं है। '' मुझे उस अनजान से व्यक्ति से बात करना ठीक नहीं लग रहा था, पर मुझे लगा इस व्यक्ति से बात करके शायद मुझे रिसर्च में कुछ और मदद मिल जाये और साथ ही समय भी कट जायेगा।  नींद तो मेरी आँखों से कोसो दूर थी।  
''हाँ, हो सकता है पर जब तक वैज्ञानिक सबूत नहीं है, ऐसी बातों पर मेरा यकीन करना मुश्किल है।''  
उसने एक फीकी मुस्कान दी और पूछा ,'' क्या तुम ईश्वर पर विश्वास करती हो?'' मैंने कहा ''हाँ , पर मै ईश्वर को एक सकारात्मक ऊर्जा के रूप में मानती हूँ जो इस दुनिया को चला रहे है।'' 
उसने कहा, '' बिलकुल सही, तुम यह तो मानती हो ना इंसान का शरीर भी ऊर्जा का एक का एक स्वरुप है? जिसे 'आत्मा '' कहा जाता है "  
''हाँ '' मैंने कहा। उसने आगे कहा ''जब एक इंसान मरता है तो वह अपना शरीर छोड़ता है, पर उसकी आत्मा तो इसी ब्रह्माण्ड में रहती है। जो आगे किसी और रूप को धारण कर लेती है। '' 
मैंने इन सब तथ्यों को अपने दादाजी के मुंह से सुना था, पर मैंने हमेशा ही इस बात को नकारा था। मैंने फिर वही शब्द कहा कि ,''क्या इसका कोई सबूत है, नहीं ना तो इन सब बातों को क्यों सच समझना चाहिए?'' 
उसने कहा ,'' तुम सही हो पर तुम्हे पता है कुछ बातों को साबित नहीं किया जा सकता है। कुछ ऊर्जा या आत्मा अपने इस अनदेखे प्रवास के दौरान पृथ्वी पर ही बंद हो जाती है। जिसे भूत- प्रेत कहा जाता है।'' 
मैंने ऐसे रोचक तथ्य कभी नहीं सुने थे, ''क्या ऐसा भी होता है? मुझे इस बारे में कुछ नहीं पता है।'' 
''और ऐसा भी  कहा जाता है कि जो आत्माये इस धरा पर ठहर जाती है, उनका कुछ उद्देश्य होता है जो वह अपने जीवन में  नहीं पूर्ण कर पाये होते है। ऐसी आत्मये अतृप्त होती है जो यहाँ वह भटकती रहती है और मोक्ष पाने का इन्तजार करती रहती है'' 
''तो फिर जो लोग इन आत्माओं के चपेट में आने से जान दे देते है, वह क्या है ? '' मैंने पूछा। 
''कोई भी आत्मा इतनी सक्षम नहीं होती की वे इंसान की जान ले पाएं।यह काम उनसे करवाया जाता है ताकि बिना किसी सबूत के वे अपने दुश्मन का काम तमाम कर दे।'' 
आज तक मैंने ऐसी बाते कभी नहीं सुनी थी। मैंने दौड़ती ट्रैन के बाहर देखा तो सूरज उदय होने की तैयारी में था। मैंने फिर उस व्यक्ति की ओर देखा और पूछा ,'' क्या आपने कभी ऐसा कुछ देखा है? जो आपने इतने विश्वास के साथ इन सब बातों को मुझे बताया।'' 
वह व्यक्ति थोड़ी देर तक खामोश रहा और कहा ,'' क्या तुम अब भी अलौकिक शक्तियों पर यकीं नहीं कर पाई हो?'' 
मुझे यह प्रश्न कुछ अटपटा सा लगा और बिना मेरे कुछ उत्तर देने से पहले ही वह व्यक्ति मेरी आँखों के आगे से ओझल हो गया, जैसे कोई सफ़ेद धुँआ छट गया हो। मुझे तो अपनी आँखों  पर विश्वास ही नहीं हुआ, आँखों को मसल कर फिर सामने वाली सीट पर देखा तो वह कोई नहीं था। ट्रैन की रफ़्तार तो एक जैसी थी। मै तुरंत उठकर यहाँ - वहाँ देखने लगी पर मुझे तो उस व्यक्ति का नामोनिशां ही नहीं मिला। सामने सूरज पूरी तरह से भोर हो चुका था, घडी ५.३० के समय दिखा रही थी। 
पसीने से तर- बतर मुझे याद आया की कुछ देर में मेरा स्टेशन आने वाला है। इतने में सामने वाली सीट का वह लड़का मुझे असमंजस में देख कर बोला ,'' मैडम आप रात में अकेले किस से बात कर रही थी? मै बाथरूम जाने के लिए उठा था, तो आपको देखा, पर उस समय आपको टोकने की हिम्मत नहीं थी।'' हिम्मत तो मेरी भी नहीं थी कि उसे बताऊ रात में मै जिस व्यक्ति से  बात कर रही थी वह कौन था? 
इतने में मेरा स्टेशन आ गया, और सामने मेरे टीम मेंबर मुझे लेने के लिए खड़े थे। मैंने जैसे तैसे खुद को संभाला और ट्रैन से उतरी। टीम मेंबर्स ने मेरा फीके चेहरे का कारण पूछा पर मैंने कुछ भी जवाब नहीं दिया। गाड़ी में वे सब यही बात कर रहे थे  कि भूत - प्रेत कुछ नहीं होता बस मन का वहम है। जब उन्होंने मेरा विचार जानना चाहा तो मैंने चुप्पी साध ली । आखिर उनको कैसे बताती की इस ट्रैन की इस यात्रा ने मेरे विश्वास और जीवन को एक दूसरा आयाम दे दिया है, जो चाह कर भी अगर किसी को बताऊ तो वह यकीं नहीं करेगा ……।