शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

शायरी


                                 
         आज इन बलखाती हवाओं ने मौसम का रुख ही बदल दिया है
             क्या पता था हमें, हम तो मौसम से ही मोहब्बत कर बैठे

      सपनों में जो नजर आता है वह हमेशा सच होता 
    तो शायद आज हम आपसे यूँ दूर ना हो जाते 
                                         
                दुख दिल में छिपाकर हम जी रहे है, 
          दुनिया तो बेवजह ही हमे दिलखुश कहती है 

                                                  
                     तुम्हारी परछाई को भी हम पहचान सकते है हम 
               वह तो हमारी बदनसीबी है कि आज उसे भी देख नही सकते हम 

                                    ख्याल भी अजीब सी भूल भूलैया है, 
                      एक पल तुम्हारे पास लाती है और अगले ही क्षण तुमसे दूर कर जाती है

                                                    







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें